नमस्कार दोस्तों, आज हम बात करेंगे भारत के ही नहीं विश्व क्रिकेट के सबसे स्टाइलिस्ट और प्रतिभाशाली बल्लेबाज वी.वी.एस लक्ष्मण की. वी.वी.एस लक्ष्मण का पूरा नाम वांगीपुरपु वेंकट साईं लक्ष्मण (Vangipurapu Venkata sai Laxman) और उन्हें प्यार से वेरी वेरी स्पेशल और लच्छूभाई कहते हैं.



  v.v.s laxman biography in hindi

V.V.S Laxman Life Story-


VVS laxman lifestory की बात करे तो वीवीएस लक्ष्मण का जन्म आंध्र प्रदेश के हैदराबाद शहर में 1 नवंबर 1974 में हैदराबाद के प्रसिद्ध डॉक्टर शांताराम और और डॉक्टर सत्यभामा के परिवार में हुआ.


माता पिता डॉक्टर होने की वजह से लाजमी था कि वह भी डॉक्टर ही बनते. पर बचपन से ही उन्हें क्रिकेट में ज्यादा रुचि थी. उन्होंने अपनी प्राथमिक शिक्षा School little Flower में पूरी की.


लक्ष्मण ने अपनी कॉलेज की शिक्षा Teri University,New Delhi से पूरी की. पर धीरे-धीरे क्रिकेट में रूचि बढ़ने की वजह से उन्होंने अपनी ‘’Honorary Doctorate Degree’’ बीच में ही छोड़ दी.


और क्रिकेट में अपना करियर बनाने की ठान ली और अपनी कड़ी मेहनत और लगन से वह भारतीय क्रिकेट और विश्व क्रिकेट के वेरी वेरी स्पेशल बल्लेबाज बन गए. और उन्होंने अपनी डिग्री संन्यास लेने के बाद पूरी की.


और सन्यास लेने के बाद हम सभी उनको आजकल एक बेहतरीन समालोचक के रूप में देख रहे हैं. बात करें उनके वैवाहिक जीवन की तो वी.वी.एस लक्ष्मण वाइफ का नाम शैलजा है.


शैलजा जी पेशे से कंप्यूटर इंजीनियर है. और इन दोनों को बेटा "समरजीत" और बेटी "औचित्य" नामक दो संताने है. इन सब में एक महत्वपूर्ण जानकारी यह है कि वी.वी.एस लक्ष्मण भारत के द्वितीय राष्ट्रपति "राष्ट्रपति डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन" जीके भतीजे हैं.


V.V.S Laxman International Career-



वी.वी.एस लक्ष्मण के आंतरराष्ट्रीय कैरियर की बात की जाए तो वह ODI, T20 क्रिकेट से ज्यादा टेस्ट क्रिकेट में सबसे बेहतरीन क्रिकेटर के तौर पर उन्हें पूरा विश्व पहचानता है.

अपने घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन के बाद वीवीएस लक्ष्मण ने international debut किया 1996 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ जब अफ्रीकन टीम भारत के दौरे पर आई आई थी. उन्होंने अपना पहला टेस्ट 19 नवंबर1996 में अहमदाबाद में खेला.

अपने पहले टेस्ट की पहली पारी में और कुछ कमाल नहीं कर पाए और सिर्फ 11 रन बनाकर डोनाल्ड ने उन्हें एल.बी.डब्ल्यू आउट कर दिया. पर दूसरी पारी में उन्होंने शानदार वापसी करते हुए उन्होंने शानदार 51 रन की पारी खेली.

और यह सिलसिला लगातार चलता रहा और फिर 2 साल बाद उन्होंने भारतीय एकदिवसीय क्रिकेट में अपना डेब्यू किया. zimbabwe के खिलाफ अपना पहला एकदिवसीय मैच उनके लिए काफी बुरा रहा. वह अपनी पहली में मैच में जीरो पर आउट हो गए. और उस मैच में मोहम्मद अजहरुद्दीन के 153 और अजय जडेजा की 116 रनों की बदौलत भारतीय टीम ने शानदार जीत हासिल की.

vvs laxman test career- अपने टेस्ट करियर में 129 टेस्ट मैचों में 8563 रन बनाए हैं उसमें उन्होंने 17 शतक भी लगाए हैं. और भारत की तरफ से सबसे ज्यादा टेस्ट रन बनाने में वह भी 16 व स्थान पर है. और टेस्ट शतक की बात करें तो वह छठे नंबर पर है.

टेस्ट क्रिकेट में इतना शानदार प्रदर्शन होने के बाद भी एकदिवसीय क्रिकेट में उन्हें ज्यादा मौके नहीं मिले. उन्होंने सिर्फ 86 वनडे खेले उसमें से उन्होंने 6 शतक और 10 अर्धशतक की बदौलत सिर्फ 30.76 की औसत से 2338 रन बनाएं है.

लेकिन लक्ष्मण को याद किया जाता है उनकी एक शानदार और महान पारी के लिए. उस एक पारी ने भारतीय टेस्ट क्रिकेट का पूरा रूप ह़ी बदल दिया यह कहना गलत नहीं होगा. उन्होंने भारतीय टेस्ट क्रिकेट में जान फूंक दी थी.


यह बात है 2001 ऑस्ट्रेलिया टीम का क्रिकेट विश्व में एक दबदबा था. उन्हें हराना किसी सपने से कम नहीं था. उसी वक्त लगातार 15 टेस्ट जीतकर ऑस्ट्रेलिया टीम Border-Gavaskar Trophy खेलने भारत पहुंची.


27 फरवरी 2001 मुंबई में हुए पहले टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलिया अपना शानदार खेल जारी रखा और भारतीय टीम को 10 विकेट से हराकर अपनी 16 जीत हासिल की.


और कोलकाता में हुए दुसरे टेस्ट में भी ऑस्ट्रेलिया दमदार प्रदर्शन किया और पर उन्होंने कल्पना भी नहीं की होगी की laxman की एक शानदार पारी उनकी 17 जीत के बीच में रोड़ा डालेगी. पहले इनिंग में Harbhajan singh hat trick के बाद भी भारतीय टीम को फॉलन मिल गया.


और दूसरी पारी में खेलने उतरी भारतीय टीम ने 274 रन से पीछे चल रही थी. और उसी के कारण वह दबाव में भी थी. पर एस.एस दास और सदागोपन रमेश ने संभलकर शुरुआत की पर सदागोपन रमेश के आउट होने के बाद कप्तान सौरव गांगुली ने बैटिंग ऑर्डर में बदलाव करते हुए. राहुल द्रविड़ की जगह फर्स्ट इनिंग के हाईएस्ट स्कोरर (59) वी.वी.एस लक्ष्मण को तीसरे नंबर पर उतारा और सबको आश्चर्यचकित कर दिया.


पर लक्ष्मण ने भी अपने कप्तान का भरोसा कायम रखा और शानदार बल्लेबाजी करते हुए दूसरी तरफ से एस.एस दास, सदागोपन रमेश, सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली ने अपने
विकेट खो दिए थे. और फिर छठे नंबर पर आने वाले राहुल द्रविड़ [108] के साथ उन्होंने बेहतरीन 376 रनों की पार्टनरशिप की.

जिसमें वीवीएस लक्ष्मण ने 452 गेंदों में 44 चौकों की मदद से और 62.16 की जबरदस्त strike rate से 281 रन बनाये और ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों के पसीने निकाल दिए. और इस पार्टनरशिप के कारण भारत में सेकंड इनिंग में 657 रनों जैसा विशाल स्कोर बनाया. और ऑस्ट्रेलिया के सामने 384 रन का लक्ष्य दिया.

और ये जबरदस्त पलटवार मिलने के बाद पूरा दबाव ऑस्ट्रेलिया आ गया. ईस कारण ऑस्ट्रेलियाई टीम सिर्फ 212 रन बना पाई और भारत ने टेस्ट मैच 172 रनों से जीत लिया और ऑस्ट्रेलियाई टीम के विजय रथ को कोलकाता में रोका गया.



V.V.S Laxman information/hobbies-


(1) फेवरेट क्रिकेटर - mohammad azharuddin


(2) फेवरेट फिल्म - Jerry Macguire


(3) फेवरेट एक्टर - अमिताभ बच्चन,आमिर खान.


(4) फेवरेट एक्ट्रेसेस - ऐश्वर्या राय.


(5) फेवरेट सिंगर - s.balasubramanian


(6) फेवरेट फूड खाना - साऊथ-इंडियन,


(7) फेवरेट देश - इंडिया,ऑस्टेलिया.


(8) फेवरेट ग्राउंड - चिन्नास्वामी स्टेडियम,भारत

- सिडनी क्रिकेट मैदान,ऑस्टेलिया.


लक्ष्मण को अपने खाली वक्त मैं योगा और ध्यान करने के भी आदत है.



Must Read -